Study Material

Vajiram and Ravi Art and Culture Notes pdf

नमस्कार विद्यार्थियों, आज के इस लेख में हम आपके लिए indian Art and Culture Notes pdf साझा कर रहे हैं| जिसे आप अपने प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोग में ला सकते हैं, हमारे द्वारा साझा किए गए नोट्स काफी उपयोगी सिद्ध हो रहे हैं, आप सभी विद्यार्थी जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं उन्हें हमारे द्वारा उपलब्ध कराए गए है Vajiram and Ravi Art and Culture Notes pdf अवश्य पढ़नी चाहिए ताकि आप सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता की ओर अग्रसर हो सके|

Vajiram and Ravi Art and Culture Notes pdf

विद्यार्थियों vajiram and ravi handwritten notes pdf में निम्नलिखित टॉपिक पर चर्चा की गई है |

  • आंध्र प्रदेश
  • अरुणाचल प्रदेश
  • असम
  • बिहार
  • छत्तीसगढ
  • गोवा
  • गुजरात
  • हरयाणा
  • हिमाचल प्रदेश
  • जम्मू और कश्मीर
  • झारखंड
  • कर्नाटक
  • केरल
  • मध्य प्रदेश
  • महाराष्ट्र
  • मणिपुर
  • मेघालय
  • मिजोरम
  • नगालैंड
  • ओडिशा
  • पंजाब
  • राजस्थान RAJASTHAN
  • सिक्किम
  • तमिलनाडु
  • तेलंगाना
  • त्रिपुरा
  • उत्तर प्रदेश
  • उत्तराखंड
  • पश्चिम बंगाल
  • दिल्ली
  • पुदुचेरी

vajiram and ravi art and culture yellow book pdf

सभ्यता कोई सहज या प्राकृतिक चीज नहीं है: हमने इसे एक लंबे इतिहास में हासिल किया है और यह पुरुषों और महिलाओं की हजारों पीढ़ियों के कंधों पर टिकी हुई है। इसे हर पीढ़ी, हर एक सदस्य द्वारा शाब्दिक रूप से नए सिरे से हासिल किया जाना चाहिए। इसके वित्त पोषण या इसके प्रसारण में कोई भी गंभीर रुकावट एक सभ्यता को समाप्त कर सकती है। प्रसिद्ध लेखक हर्बर्ट जॉर्ज वेल्स ने कहा था कि ‘सभ्यता आपदा और शिक्षा के बीच की दौड़ है।

भारत अपने 5000 वर्षों के इतिहास के ढांचे के भीतर सांस्कृतिक अध्ययन का सर्वोत्तम क्षेत्र प्रदान करता है। इस लंबी अवधि के दौरान, देशी और विदेशी ताकतों के बीच संघर्ष हुए, जो अंततः स्वदेशी लोगों और उनके जीवन और आचरण पर अपना प्रभाव छोड़े बिना समाप्त हो गए। प्राचीन काल में आर्य, एकेमेनियन, फारसी, यूनानी, पार्थियन, शक, कुषाण और हूण; अरब, अफगान, तुर्क, मंगोल जैसी कई ताकतों ने भारत पर अपना वर्चस्व स्थापित करना चाहा |

vajiram and ravi notes 2023

Vajiram and Ravi Art and Culture Notes pdf
Vajiram and Ravi ncert Notes pdfClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

You cannot copy content of this page